तबाही की कगार पर गाज़ा # 41

 

 

Oracle IAS, the best coaching institute for UPSC/IAS/PCS preparation in Dehradun brings to you daily current affair

प्रश्न : हमास क्या है? वर्तमान में गाजा पट्टी में चल रहे  विवाद के कारण किस तरीके की समस्या उत्पन्न हो रही है? इससे निपटने के लिए उपयुक्त सुझाव क्या होने चाहिए? 

हाल ही में गाज़ा पट्टी (Gaza Strip) में फिलिस्तीनी (Palestine) लड़ाकों तथा इज़राइल (Israel)के बीच भड़के खूनी संघर्ष ने गाज़ा पट्टी के भविष्य को अनिश्चित बना दिया है। गौरतलब है कि हमास के खिलाफ इज़राइली सेना के एक अभियान के दौरान भारी गोलीबारी हुई। इस गोलीबारी में 7 लोगों के मरने की पुष्टि की गई, जिनमें एक इज़राइली सैनिक के साथ-साथ हमास के सशस्त्र विंग का एक स्थानीय कमांडर भी शामिल था।

पढ़ना जारी रखें “तबाही की कगार पर गाज़ा # 41”

संरक्षण प्रयासों हेतु सही नीति #40

Oracle IAS, the best coaching institute for UPSC/IAS/PCS preparation in Dehradun brings to you daily current affair.

प्रश्न:वर्तमान में मनुष्य तथा वन्य जीव के संघर्ष के कारणों का पता लगाते हुए यह बताएं कि मानव समाज के सामने पर्यावरण संरक्षण एवं वन्य जीव के संबंध में किस प्रकार की चुनौती  विद्यमान है ? इसका निस्तारण किस प्रकार संभव है ?

हाल ही में महाराष्ट्र के यवतमाल ज़िले में नरभक्षी बाघिन अवनि को मार दिया गया। माना जाता है कि इस बाघिन ने पिछले दो सालों में लगभग 13-14 लोगों की जान ली थी। इस बाघिन के नरभक्षी होने के बावजूद इसकी हत्या का विरोध भी किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि अवनि को अधिकारिक रूप से टी-1 के नाम से जाना जाता था। दरअसल, यह घटनाक्रम वन्यजीवों के संरक्षण हेतु प्रयासों की सच्ची तश्वीर पेश करता है। यह कोई अद्वितीय या नई घटना नहीं है, बल्कि मानव-वन्यजीव संघर्ष भारत में स्थानिक है। इसे आमतौर पर विकास गतिविधि की नकारात्मकता और प्राकृतिक आवासों में गिरावट के रूप में चित्रित किया जा सकता है।

पढ़ना जारी रखें “संरक्षण प्रयासों हेतु सही नीति #40”

उचित आहार का निर्धारण (Setting a proper diet plan) #39

Oracle IAS, the best coaching institute for UPSC/IAS/PCS preparation in Dehradun brings to you daily current affair.

प्रश्न :कुपोषण क्या है? भारत में इसकी स्थिति को बताएं | भारतीय समाज के सामने यह किस प्रकार एक बहुत बड़ी चुनौती के रूप में सामने आता है और इस पर नियंत्रण कैसे संभव हो सकता है?

संदर्भ

पूरे विश्व में तेज़ी से उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं में से एक होने का तमगा लगने के बावजूद भारत ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2018 के 119 देशों की सूची में 103वें पायदान पर है। इस पायदान पर होना भारत के लिये अत्यंत गंभीरता का विषय है। हाल ही में भारत की राजधानी, दिल्ली में दीर्घकालिक कुपोषण तथा भूख की वज़ह से आश्चर्यजनक ढंग से तीन बच्चियों की मौत हो गई थी।

क्या यह विडंबना नहीं है कि ऐसी घटना उस जगह पर हुई जहाँ प्रति व्यक्ति आय काफी उच्च है। भारत में कुपोषण की भयावह स्थिति वैश्विक पटल पर दयनीय होने के साथ-साथ सभी राज्यों में भी असमान रूप से भिन्न-भिन्न है।

पढ़ना जारी रखें “उचित आहार का निर्धारण (Setting a proper diet plan) #39”

भारत में सेवा क्रांति के मायने (India and the promise of service revolution) #38

Oracle IAS, the best coaching institute for UPSC/IAS/PCS preparation in Dehradun brings to you daily current affair.

प्रश्न : भारत के पहली औद्योगिक क्रांति से चौथी औद्योगिक क्रांति  तक  के सफर को तय किया है|ऐसे मे फिलहाल चौथी औद्योगिक क्रांति मे उत्पन्न कौन सी चुनौतियाँ है|और इससे कैसे निपटा जा सकता है? 

सामान्य अध्ययन-III

संदर्भ

भारत चौथी औद्योगिक क्रांति का सामना कर रहा है जो उद्यमियों, उपभोक्ताओं, युवाओं और वृद्ध लोगों को समान रूप से प्रभावित करेगा। पहली औद्योगिक क्रांति पानी और भाप की शक्ति के कारण हुई, जिसने मानव श्रम को यांत्रिकी निर्माण में परिवर्तित किया वहीं, दूसरी औद्योगिक क्रांति विद्युत शक्ति के कारण हुई जिसकी  वज़ह बड़े स्तर पर उत्पादन संभव हो सका तथा तीसरी औद्यगिक क्रांति ने इलेक्ट्रॉनिक  और सूचना प्रौद्योगिकी के प्रयोग द्वारा स्वचालित निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया। चौथी औद्योगिक क्रांति वर्तमान में जारी है और इसमें ऑटोमेशन तथा निर्माण प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में आँकड़ों का आदान-प्रदान किया जा रहा है। डिजिटल संचार में पाँच दशकों की बढ़ती क्षमताओं और गिरती लागतों के परिणामस्वरूप वैश्विक सेवा क्रांति हुई यह मौजूदा उद्योगों, श्रम बाज़ारों को पुनः बदल रहा है और इस तरह से हम एक-दूसरे से संबंधित हैं तथा इससे प्रभवित हो रहे हैं। सेवा क्षेत्र अब विनिर्माण क्षेत्र पर हावी है और विकसित अर्थव्यवस्थाओं में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 70% से अधिक का योगदान देता है।

पढ़ना जारी रखें “भारत में सेवा क्रांति के मायने (India and the promise of service revolution) #38”

तालिबान पर भारत की अवस्थिति (The shift in India position on Taliban) #37

Oracle IAS, the best coaching institute for UPSC/IAS/PCS preparation in Dehradun brings to you daily current affair.

प्रश्न : मॉस्को फॉर्मेट क्या है ? भारत सरकार की तालिबान के साथ वर्तमान संबंध  का अध्ययन करके बताए  की तालिबान किस प्रकार भारत और अफगानिस्तान के संबंध को प्रभावित कर रहा है| 

संदर्भ

हाल ही में भारत ने ‘मॉस्को फॉर्मेट’ की बहुपक्षीय बैठक में ‘गैर-आधिकारिक’ प्रतिभागियों के रूप में दो पूर्व राजनयिकों को भेजा था। गौरतलब है कि इस बैठक में तालिबानी प्रतिनिधियों को भी शामिल किया गया था। भारतीय राजनयिकों में अफगानिस्तान के पूर्व राजदूत अमर सिन्हा और पाकिस्तान के पूर्व उच्चायुक्त टी. सी. ए. राघवन शामिल थे। वर्तमान में सिन्हा और राघवन विदेश मंत्रालय द्वारा वित्तपोषित अलग-अलग थिंक टैंक से संबद्ध हैं।

पढ़ना जारी रखें “तालिबान पर भारत की अवस्थिति (The shift in India position on Taliban) #37”

क्वाड चतुष्कोणीय समूह(Four corners: on the Quad’s agenda) #36

Oracle IAS, the best coaching institute for UPSC/IAS/PCS preparation in Dehradun brings to you daily current affair.

प्रश्न : क्वाड समूह क्या है? इसके संभावित लाभ को बताए| वर्तमान मे क्वाड समूह मे निहित  समस्या को उजागर करते हुए यह समझाये की कैसे भविष्य मे इसका  समाधान संभव हो सकेगा?

सामान्य अध्ययन-II

संदर्भ

हाल ही में भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान और अमेरिका के क्वाड समूह’ के अधिकारियों ने सिंगापुर में मुलाकात की। क्वाड को ‘ स्वतंत्र, खुले और समृद्ध ’ भारत-प्रशांत क्षेत्र को सुनिश्चित करने और समर्थन करने के लिये साझा उद्देश्य के साथ चार लोकतंत्रों के रूप में पहचाना जाता है। इस दौरान चार देशों के इस समूह द्वारा उन बुनियादी ढाँचे की परियोजनाओं पर चर्चा करने की उम्मीद है, जिन पर वे काम कर रहे हैं और मानवतावादी आपदा प्रतिक्रिया तंत्र का निर्माण कर रहे हैं।

पढ़ना जारी रखें “क्वाड चतुष्कोणीय समूह(Four corners: on the Quad’s agenda) #36”

मानवाधिकार आयोग को शक्तिशाली बनाया जाना चाहिए # 35

प्रश्न:संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद् किस प्रकार राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग पर 
अपना अधिकार रखता है |इसका गठन कब हुआ था|वर्तमान मे राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की कमियों को उजागर करे और संभावित सुधार भी सुझाएँ|

पृष्टभूमि :

वर्ष 2018 में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के 25 वर्ष पूरे हो रहे हैं। आयोग का गठन 1993 के मानवाधिकार सुरक्षा अधिनियम के आधार पर किया गया था। अपने गठन की शुरूआत से ही आयोग विवादों में घिरा रहा है। संसद के आगामी शीतकालीन सत्र में सरकार ने इस पर संशोधन प्रस्ताव प्रस्तुत करने की योजना बनाई है

पढ़ना जारी रखें “मानवाधिकार आयोग को शक्तिशाली बनाया जाना चाहिए # 35”

यूनिवर्सल बेसिक इनकमः आर्थिक-सामाजिक सुरक्षा की ओर बढ़ते कदम #34

Oracle IAS, the best coaching institute for UPSC/IAS/PCS preparation in Dehradun brings to you daily current issues.

प्रश्न:यूबीआई क्या है?इसके संभावित लाभ और क्रियान्वयन मे आने वाले समस्या  को समझाते हुए इसका आलोचनात्मक अध्ययन करे|

क्या है यूबीआई?

  • यूबीआई एक न्यूनतम आधारभूत आय की गारंटी है, जो प्रत्येक नागरिक को बिना किसी न्यूनतम अर्हता के आजीविका के लिये हर माह सरकार द्वारा दी जाएगी।
  • यह बेशर्तिया और सर्वजनीन अधिकार है, तथा इसके लिये व्यक्ति को केवल भारत का नागरिक होना ज़रूरी होगा।
  • यह व्यक्ति को किसी अन्य स्त्रोत से हो रही आय के अलावा प्राप्त होगी।

पढ़ना जारी रखें “यूनिवर्सल बेसिक इनकमः आर्थिक-सामाजिक सुरक्षा की ओर बढ़ते कदम #34”

मृत्युदंड: उचित या अनुचित? #33

Oracle IAS, the best coaching institute for UPSC/IAS/PCS preparation in Dehradun brings to you daily current affair.

प्रश्न : मृत्युदंड के इतिहास को बताते हुए समझाये की वर्तमान समय के बदलते परिवेश मे मृत्युदंड देना उचित है या अनुचित|

सामान्य अध्ययन-IV

परिचय

यह एक प्रचलित अवधारणा है कि समय के साथ दंड विधान भी अधिक नरम होते जाते हैं और क्रूरतम प्रकृति की सजा क्रमशः चलन से बाहर हो जाती हैं। यह धारणा इस बुनियाद पर टिकी है कि मानव समाज निरंतर सभ्य होता चला जाता है और एक सभ्य समाज में कोई ऐसा कानून शेष नहीं रहना चाहिये जो उस सभ्यता के अनुकूल न हो। फाँसी की सज़ा को भी इसी कसौटी पर परखा जाता है।

पढ़ना जारी रखें “मृत्युदंड: उचित या अनुचित? #33”

राष्ट्रीय विधिक सेवा दिवस (national legal service day) # 32

Oracle IAS, the best coaching institute for UPSC/IAS/PCS preparation in Dehradun brings to you daily current affair.

प्रश्न: राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण क्या है?इसके क्या कार्य है? इसके अंतर्गत सहायता पाने के लिए पात्रता व्यक्ति कौन है? निःशुल्क विधिक सेवाएँ प्रदान करने वाले विधिक सेवा संस्थान कौन है?

पढ़ना जारी रखें “राष्ट्रीय विधिक सेवा दिवस (national legal service day) # 32”