UPPCS Mains- 2018 answer writing practice #36

UPPCS Mains- 2018 answer writing practice

MGNREGA works relatively better when comparing with other redistributive programmes like including farm loan waivers, cash transfers and minimum income guarantees. Discuss. (125 words)

कृषि ऋण माफी, नकद हस्तांतरण और न्यूनतम आय गारंटी जैसे अन्य पुनर्वितरण कार्यक्रमों के साथ तुलना करने पर मनरेगा अपेक्षाकृत बेहतर काम करता है। चर्चा करें।


Model Answer

The government runs several schemes/policies for poverty eradication and for the vulnerable section. It includes loan waivers, DBT (KALIA, UJJAWALA etc.). However the MGNREGA scheme is better than the other such programs

MGNREGA is self targeting where the beneficiary identifies himself while the DBT, loan waiver, PDS requires identification costs and it is difficult for the government to target the beneficiaries with available data. Poorer and disadvantaged households are more likely to seek NREGA work. Given the enormous, though sometimes unmet, demand, has NREGA enabled the rural poor to cross the poverty line. The poorest SC/ST households and those with a disabled member saw even higher growth in consumption and nutritional intake in the short-run, and in the medium-term, substantially increased their non-financial assets. NREGA also plays a critical role in reducing vulnerability. Research indicates that NREGA provides employment after an adverse rainfall shock, enables workers to smoothen their consumption with variations in rainfall, and reduces risk during the lean season. Moreover, as the economy slumps there is a growing demand to reinvigorate MGNREGA to increase rural demand and revive the economy.


सरकार गरीबी उन्मूलन और कमजोर वर्ग के लिए कई योजनाएं / नीतियां चलाती है। इसमें ऋण छूट, डीबीटी (कालिया, उज्ज्वला आदि) शामिल हैं। हालाँकि मनरेगा योजना इस तरह के अन्य कार्यक्रमों से बेहतर है|

मनरेगा स्वयं लक्ष्यीकरणीय है जहां लाभार्थी स्वयं की पहचान करता है, जबकि डीबीटी, ऋण माफी, पीडीएस में कुछ अर्हताएं हैं और सरकार के लिए उपलब्ध आंकड़ों के साथ लाभार्थियों को लक्षित करना मुश्किल होता है। गरीब और वंचित परिवार ही अधिकतर नरेगा में काम करने के इच्छुक होते है। इसकी भारी मांग, जो कि कई बार पूरी नहीं हो पाती, ने    कई ग्रामीण गरीबों को गरीबी रेखा को पार करने में सक्षम बनाया। सबसे गरीब एससी / एसटी और विकलांग सदस्य वाले परिवारों  के  अल्पावधि में  पोषण संबंधी खपत में अधिक वृद्धि देखी गई, और मध्यम अवधि में, उनकी गैर-वित्तीय संपत्ति में भी काफी वृद्धि हुई। भेद्यता को कम करने में नरेगा भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अनुसंधान इंगित करता है कि नरेगा अनावृष्टि के बाद रोजगार प्रदान करता है, श्रमिकों को वर्षा में बदलाव के साथ उनकी खपत को जारी रखने में सक्षम बनाता है, और गैर फसली काल में जोखिम को कम करता है। इसके अलावा, अर्थव्यवस्था में गिरावट के साथ ग्रामीण मांग को बढ़ाने और अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए मनरेगा को फिर से मजबूत करने की मांग बढ़ रही है।


Contact us for:-

  • IAS coaching in Dehradun (Uttarakhand)
  • UKPCS/UPPCS Mains coaching in Dehradun (Uttarakhand)
  • Current Affairs classes in Dehradun (Uttarakhand)
  • For getting detailed feedback on your answers and improve answer writing
  • Phone Number:–9997453844